SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और SIP सम्पूर्ण जानकारी।

आपने कभी ना कभी SIP का नाम सुना होगा। SIP क्या है या सिप क्या है, हमें SIP में क्यों निवेश करना चाहिए, SIP के क्या फायदे हैं? यह सब सवाल आपके मन में चलते रहते होंगे।

आजकल SIP बतौर इन्वेस्टमेंट अत्यधिक लोकप्रिय है। दोस्तों, आज के समय में हम सब कहीं ना कहीं निवेश करके संपत्ति का निर्माण करना चाहते हैं। कोई गोल्ड में निवेश करता है कोई स्टॉक मार्केट में या कोई एफडी, पीपीएफ आदि में निवेश करता है।

इन्हीं लोकप्रिय विकल्पों में से एक है Mutual Fund – SIP, जो कि पिछले कुछ वर्षों से बहुत तेजी से बढ़ रहा है और भविष्य में भी इसकी संभावनाएं प्रबल दिखाई दे रही है।
अगर आप भी SIP के बारे में जानने को इच्छुक है तो आइए समझते हैं SIP क्या है (What is SIP in Hindi), SIP Meaning in Hindi और SIP सम्पूर्ण जानकारी।

SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और सम्पूर्ण जानकारी
SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और सम्पूर्ण जानकारी

SIP Meaning in Hindi

  • SIP का पूरा नाम है Systematic Investment Plan. SIP को कुछ लोग सिप भी कहते है।
  • जैसा की नाम से जान सकते है SIP निवेश करने का एक व्यवस्थित तरीका है।
  • यह ज्यादातर Mutual Funds में निवेश करने के लिए उपयोग किया जाता है। SIP meaning in Hindi.
  • इस तरीके में निवेशक एक साथ पूरा पैसा निवेश करने के बजाए निश्चित समय अंतराल में निश्चित राशि निवेश करता रहता है।
  • जैसे निवेशक ने 1000 रूपए प्रति माह की SIP शुरू करवाई है तो वह हर महीने 1000 रुपए उस म्यूच्यूअल फंड में निवेश करता रहेगा।
  • छोटी छोटी राशि हर महीने या हर तिमाही में निवेश करने पर निवेशक पर ज्यादा आर्थिक बोज नहीं बढ़ता।
  • इस लिए बहुत कम आय वाला व्यक्ति भी यह निवेश कर सकता है। https://smartinvestmentfunds.com/
  • SIP स्वयं में कोई निवेश विकल्प नहीं होता हैं बल्कि यह म्यूचुअल फंड में निवेश करने का तरीका होता हैं।
  • म्यूचुअल फंड में सामान्यतः दो तरीकों से निवेश किया जा सकता हैं –1.SIP (Systematic investment Plan) , 2.Lump Sum
SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और सम्पूर्ण जानकारी
SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और सम्पूर्ण जानकारी

SIP क्या है -What is SIP in Hindi

आप SIP के माध्यम से किसी म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश कर सकते हैं। SIP में आप एक म्यूचुअल फंड स्कीम में लगातार पैसा डालते रहते हैं जिससे आपके पास मैच्योरिटी पर बहुत सारा पैसा इकट्ठा हो जाता है।

SIP को आप अपने घर के गुल्लक के उदाहरण से भी समझ सकते हैं। जैसे आप उसमें रोज कुछ पैसे डालते रहते हैं और अंत में जब आप उसे फोड़ते हैं तो उसमें से बहुत सारा पैसा निकलता है। लेकिन यहां पर आपको उस पैसे पर कोई ब्याज नहीं मिलता है परंतु SIP में आपको आपके पैसे पर Profit मिलता है। इस तरह SIP म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने का एक माध्यम है। SIP में आप एक निश्चित अंतराल में कुछ राशि अपने पोर्टफोलियो में लगातार जमा करते हैं जिससे आपकी लंबे समय में अच्छी संपत्ति का निर्माण हो जाता है।

SIP Start करना आज के समय में बहुत आसान है। जब आप अपने SIP Biller को बैंक अकाउंट में जोड़ते हैं या ECS मैंडेट चालू करवाते हैं तो आपकी SIP इंस्टॉलमेंट खुद ही देय तिथि को आपके बैंक अकाउंट से कट हो जाती है। इसके लिए आपको ऑटो डेबिट को चालू करना होता है।SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और SIP सम्पूर्ण जानकारी।

आखिर SIP ही क्यों? (Why SIP in Hindi)

दोस्तों अधिकतर लोग एकमुश्त बड़ा निवेश कर पाने में सक्षम नहीं होते हैं इसलिए SIP में कम निवेश से भी इन्वेस्टमेंट की शुरुआत कर सकते हैं।

म्यूच्यूअल फंड अपना अधिकांश हिस्सा शेयर मार्केट में निवेश करते हैं। अब मान लीजिए आपको शेयर मार्केट में निवेश करना है तो आपके पास तीन विकल्प मौजूद हैं।

1. आप स्वयं अपनी रिसर्च और समय लगाकर अच्छे स्टॉक्स का चुनाव करें। अगर आपको अच्छी नॉलेज नहीं है तो आप इसमें अपना पैसा गंवा सकते हैं।

2. आप किसी इन्वेस्टमेंट एडवाइजर के द्वारा निवेश करे। इस तरीके में इन्वेस्टमेंट एडवाइजर को आपको फीस देनी होती है और वह आपको बार-बार शेयर खरीदने व बेचने की सलाह देता है जिसमें आपको समय निकालकर यह सब लेनदेन करने होते हैं। इन्वेस्टमेंट एडवाइजर होने के बावजूद आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है।
3. आप म्यूचुअल फंड के माध्यम से निवेश कर सकते हैं जिसमें आपको न तो समय निकलना होता है नहीं नियमित transactions करने होते हैं। इसमें आपके पोर्टफोलियो को समय-समय पर ट्रैक भी नही करना पड़ता। इस प्रकार मार्केट के रिटर्न्स का फायदा उठाने के लिए म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है।

SIP में कितना पैसा लगा सकते हैं?

SIP का एक लाभ यह भी है कि आप मात्र ₹500 से भी अपना निवेश start कर सकते हैं। ऊपर की कोई सीमा नहीं है आप कितने भी अमाउंट से स्टार्ट कर सकते है । SIP में आप अपनी कमाई के अनुसार निवेश कर सकते हैं। यहां तक की कुछ फण्ड हाउस तो मात्र ₹100 से भी निवेश की सुविधा ऑफर करते हैं।

आप SIP में अपनी कम उम्र से भी निवेश स्टार्ट कर सकते हैं। इसमें आप जितना जल्दी निवेश करेंगे उतना ही आपको फायदा रहेगा । उदाहरण के तौर पर अगर आपने 25 वर्ष की उम्र में मात्र ₹ 500 की SIP प्रारंभ की है तो 12% के रिटर्न के हिसाब से भी आपकी 60 वर्ष की उम्र में आपके पास में ₹ 32.50 लाख जमा हो जाएंगे।

SIP कैसे काम करता है?

म्यूचुअल फंड में SIP एक निवेश का तरीका हैं। SIP के माध्यम से निवेशक नियमित अंतराल पर निश्चित राशि निवेश करते हैं, जिससे उनके निवेश की मात्रा समय के साथ बढ़ती रहती है।

  • सबसे पहले निवेशक को अपनी KYC करवानी होती हैं।
  • इसके लिए वो अपस्टॉक्स, ज़ेरोधा या एंजेल वन या फिर किसी भी ब्रोकर से अकाउंट खुलवा सकता हैं।
  • इसके बाद उसे एक म्यूचुअल फंड स्कीम का चयन करना होता हैं।
  • साथ ही SIP का अंतराल, अवधि और SIP की राशि भी चुननी होती हैं।
  • जिस भी म्यूचुअल फंड स्कीम को आपने चुना हैं उसमें आपको SIP करनी होती हैं।
  • बैंक मैंडेट करना पड़ता हैं। https://smartinvestmentfunds.com/
  • महीने की निश्चित तारीख पर आपका पैसा बैंक से कटता हैं।
  • आपको NAV के आधार पर म्यूचुअल फंड यूनिट्स आवंटित होती हैं जो आपके पोर्टफोलियो में दिखाई देती हैं।

SIP करने के नियम

  • यदि आप SIP में निवेश करके अच्छी संपत्ति बनाना चाहते हैं तो आपको कुछ नियमों का पालन करना पड़ेगा ।जिससे आपको अपने लक्ष्य तय सीमा में प्राप्त करने में आसानी रहेगी ।
  • आपको अपने लक्ष्य एवं risk लेने की क्षमता के अनुसार ही SIP का चुनाव करना चाहिए।
  • जहां तक हो सके कभी भी अपनी SIP क़िस्त को बाउंस मत होने दीजिए।अगर आप की किस्त बाउंस होती है तो आपको Cost और Compounding में नुकसान उठाना पड़ सकता है।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात है धैर्य। आपको अपने निवेश को कुछ समय देना होगा। कई बार SIP प्रारंभ करने के पश्चात कुछ लोगो कोअपना पोर्टफोलियो नेगेटिव दिखाई देने लगता है जिससे वे घबराकर अपना निवेश बेचकर बाहर हो जाते हैं।दोस्तों आपको यह बात अवश्य ध्यान रखनी चाहिए कि आपको अपने निवेश को टाइम देना ही होगा।
SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और सम्पूर्ण जानकारी
SIP Meaning in Hindi | SIP क्या है और सम्पूर्ण जानकारी

SIP में निवेश करने के फायदे

SIP के जरिए निवेश करने से आपको कई प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं। SIP के फायदे इस प्रकार है | –

  • कम निवेश के कारण आर्थिक बोझ की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता।
  • कई लोगों के एक साथ लगे पैसों को प्रोफेशनल फंड मैनेजर द्वारा संचालित किया जाता है जिससे जोखिम की मात्रा कम हो जाती है।
  • आप SIP के Dividend प्लान को चुनकर समय-समय पर डिविडेंड की राशि सीधे अपने बैंक में प्राप्त कर सकते हैं।
  • SIP में आप जब चाहे अपने पैसों को निकाल सकते हैं।
  • सेबी के नियमों के कारण SIP सुरक्षित निवेश माना जा सकता हैं।
  • आप जब चाहे अपनी SIP की राशि को घटा-बढ़ा सकते हैं। फंड मैनेजर द्वारा पैसा शेयर मार्केट, गोल्ड, बांड्स आदि में लगाया जाता है
    जिससे आपके पोर्टफोलियो में विविधता बनी रहती हैं।
  • SIP में समय सबसे अधिक महत्वपूर्ण भाग अदा करता है। आप जितना समय निवेशित रहेंगे आपका रिटर्न उतनी तेजी से बढ़ेगा।
    SIP में आपको Compounding का जबरदस्त फायदा मिलता है।

चलिए मैं आपको इसे एक उदाहरण की सहायता से समझाता हूं।https://smartinvestmentfunds.com/

InvesterKrishGotam
Monthly SIP1000010000
Year1520
Return15%15%
Maturity Amount67.68 Lakhs1.51 Cr.

यहां देखिए दोस्तों गौरव और गौतम दोनों ने ₹10000 की SIP शुरू की। गौरव ने सिप में 15 वर्ष तक निवेश किया और गौतम ने 20 वर्ष तक निवेश किया | गौरव 15 वर्ष में ₹67. 6 Lakhs लेकर निकलेगा और वही गौतम मात्र 5 वर्ष और अधिक निवेश करके गौरव का दुगना लेकर निकल रहा है। इसे कहते हैं SIP में Power of compounding.

  • आज के समय में लगभग सभी बैंकों द्वारा अपनी FD पर ब्याज की दर काफी घटा दी गई है। अधिकतर FD प्लान्स inflation को भी beat करने में सक्षम नहीं है। तो यहां SIP का महत्व ओर बढ़ जाता है। SIP में नियमित एवं अनुशासित निवेश करके आफ inflation को मात देकर अच्छे रिटर्न्स प्राप्त कर सकते हैं।
  • एक बार KYC करवाने के पश्चात आपको बार-बार KYC करवाने की आवश्यकता नहीं होती। आप सीधे अपने पैन कार्ड के आधार पर म्यूच्यूअल फंड खरीद सकते हैं।
    SIP में कागजी कार्यवाही का झंझट नहीं रहता और mutual funds सेबी द्वारा regulate होने के कारण पैसे की डूबने की संभावना नहीं रहती।

SIP शुरू करने से पहले किन बातों का ध्यान रखें?

SIP (Systematic Investment Plan) शुरू करने से पहले आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए।

निवेश की योजना तैयार करें – सबसे पहले, आपको अपने के उद्देश्य, निवेश की अवधि, और निवेश की राशि का निर्धारण करना होगा।
रिस्क और पुराने प्रदर्शन की जाँच करें – आपको निवेश करने से पहले चयनित म्यूचुअल फंड की रिस्क को समझना महत्वपूर्ण है। साथ ही आपको                                                  फंड के पिछले प्रदर्शन का भी अध्ययन करना चाहिए।
नियमित निवेश की आदत डालें – SIP का मुख्य लक्ष्य नियमित निवेश की आदत डालना होता है। आपको अपने SIP का नियमित भुगतान करना चाहिए।
धैर्य रखें – SIP में कम्पाउंडिंग के जरिए लॉन्ग टर्म में अच्छी वेल्थ का निर्माण हो सकता हैं।
यह सभी बातें महत्वपूर्ण होती हैं ताकि आप SIP शुरू करने से पहले सावधानीपूर्वक सोच-समझ कर ही निवेश करें।

FAQ’s on SIP Meaning in Hindi

Q 1. SIP क्या होता है?

Ans. एसआईपी(SIP) एक निवेश योजना है, जिसमें छोटी-छोटी राशि से निवेश किया जा सकता है। इस योजना के जरिए म्यूचुअल फंड में आसानी से निवेश किया जा सकता है। अगर किसी की मासिक आय कम है तो निवेश कर पाएंगे। इस योजना के तहत अंतराल में साप्ताहिक, मासिक, तिमाही, अर्धवार्षिक और वार्षिक में निवेश किया जा सकता है। आय के हिसाब से एसआईपी तय किया जा सकता है, इससे एसआईपी निवेशक अच्छी बचत कर सकते हैं

Q 2. सिप में कितना रिटर्न मिलता है?

Ans.  SIP Calculator के मुताबिक अगर वहीं निवेशक 5000 रुपए की SIP ऐसी स्कीम में करता है जिसका औसत रिटर्न 20 फीसदी है. ऐसे में 20 साल के बाद 1.58 करोड़ रुपए का फंड तैयार होगा. निवेश की कुल राशि 12 लाख रुपए होगी और रिटर्न करीब 13 गुना होगा |

Q 3. सिप कब लेना चाहिए?

Ans.  आप चाहें महीने की 1 तारीख को करें, या महीने के मिड में करें या आखिरी में करें, SIP रिटर्न में कोई खास बदलाव नहीं आता है. जब भी आपके पास पैसा हो उस दिन से ही स्टार्ट क्र सकते है |

Q 4. क्या एसआईपी शेयरों से बेहतर है?

Ans. स्टॉक एसआईपी व्यक्तिगत स्टॉक में सीधा एक्सपोजर प्रदान करता है, जिससे संभावित रूप से उच्च रिटर्न की अनुमति मिलती है लेकिन बाजार में अस्थिरता के कारण उच्च जोखिम होता है। दूसरी ओर, म्यूचुअल फंड एसआईपी विविधीकरण प्रदान करता है, विभिन्न क्षेत्रों में प्रतिभूतियों के पोर्टफोलियो में निवेश करके जोखिम को कम करता है।

Q 5. अगर मैं एसआईपी में 5000 निवेश करूं तो मुझे कितना मिलेगा?

Ans. आप एसआईपी में 5000 हजार रुपए 25 साल के लिए निवेश करते हैं तो आपको 25 साल में कुल 15 लाख रुपए जमा करने होंगे. इसमें 12 फीसदी की दर से आपको 79,88,175 रुपए ब्याज मिलेगा

निष्कर्ष

दोस्तों अगर आप यह पोस्ट पढ़कर SIP करवाने की सोच रहे है तो आप बिल्कुल सही करने जा रहे हैं। आप जितना कम उम्र में निवेश शुरू करेंगे उतना आपको फायदा होगा। SIP को किसी भी उम्र में शुरू किया जा सकता है चाहे आप स्टूडेंट ही क्यों न हो। इसलिए एक अच्छे निवेशक के तौर पर आप SIP में निवेश शुरू कर सकते है।

इस पोस्ट के माध्यम से आज आपने जाना की SIP क्या है (What is SIP). SIP का क्या अर्थ हैं SIP Meaning in Hindi. अगर आपके म्यूचुअल फंड या SIP से संबंधित कोई भी सवाल हो तो आप हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है।

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment